बिहार के मुख्य सचिव आमिर सुबहानी अस्पताल में भर्ती, नीतीश कुमार मिलने पहुंचे

बिहार के मुख्य सचिव आमिर सुबहानी अस्पताल में भर्ती, नीतीश कुमार मिलने पहुंचे

बिहार के मुख्य सचिव आमिर सुबहानी अभी पटना के पारस अस्पताल में भर्ती हैं। दो दिनों से उन्हें तेज बुखार की शिकायत थी जिसके बाद उन्हें भर्ती कराया गया।

बिहार के मुख्य सचिव आमिर सुबहानी अभी पटना के पारस अस्पताल में भर्ती हैं। दो दिनों से उन्हें तेज बुखार की शिकायत थी जिसके बाद उन्हें भर्ती कराया गया। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार शुक्रवार सुबह उनसे मिलने पारस अस्पताल पहुंचे। उन्होंने आमिर सुबहानी का हालचाल लिया। पिछले दिनों पटना के डीएम को डेंगू होने पर मुख्यमंत्री ने अस्पताल पहुंचकर उनसे मुलाकात की थी। आमिर सुबहानी को भी डेंगू होने की आशंका है।

दरअसल, बिहार में अब तक डेंगू मरीजों की कुल संख्या 1300 को पार कर चुकी है। राज्य में बुधवार को 200 और लोगों के डेंगू पॉजिटिव पाए जाने के साथ एक दिन में सबसे अधिक मामले दर्ज किए गए। सूबे में अब तक कुल पॉजिटिव केस 1332 हो गए हैं। उधर, डेंगू के बढ़ते मामलों को देखते हुए राज्य सरकार ने एक उच्च स्तरीय बैठक बुलाई। जिसमें अधिकारियों को सतर्क रहने और स्थिति को नियंत्रित करने के लिए हरसंभव प्रयास का निर्देश दिया गया।

बीते दिनें डेंगू से एक व्यक्ति की मौत हो गई। जिस शख्स की मौत हुई वो 40 साल के थे और भागलपुर का रहने वाले थे। राज्य में डेंगू के दूसरे सबसे अधिक मामले भागलपुर में ही सामने आए हैं। डेंगू मरीजों की बढ़ती संख्या को ध्यान में रखते हुए, इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान (आईजीआईएमएस) और एम्स-पटना ने जांच बढ़ा दिया है। इसके संक्रमण का पता लगाने के लिए बुधवार से डेंगू के लिए सीरोलॉजी टेस्ट शुरू कर दिए हैं।

स्वास्थ्य विभाग की ओर से साझा किए गए आंकड़ों के अनुसार, बुधवार को रिपोर्ट किए गए 200 मामलों में से सबसे अधिक 67 केस पटना से थे। इसके बाद भागलपुर में 28, औरंगाबाद में 12, सारण में 9 और गया में 8 केस मिले हैं। इस साल अब तक कुल 1332 डेंगू के मामले सामने आए हैं। इसमें से 1057 मामले अकेले सितंबर में दर्ज किए गए हैं।

डेंगू के मामलों की संख्या को देखते हुए राजधानी पटना में अस्पताल खास अलर्ट पर हैं। राज्य के अलग-अलग सरकारी अस्पतालों में कुल 242 लोगों का इलाज चल रहा। जिनमें से सबसे अधिक 127 मरीज जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज और अस्पताल भागलपुर में हैं। इसके बाद पटना मेडिकल कॉलेज और अस्पताल (पीएमसीएच) में 35 मरीज भर्ती हैं। दरभंगा मेडिकल कॉलेज और अस्पताल (डीएमसीएच) में 21 और श्री कृष्णा मेडिकल कॉलेज और अस्पताल, मुजफ्फरपुर में 18 मरीज इलाजरत हैं।