मोहम्मद जुबैर पर पोक्सो एक्ट के तहत FIR, मुजफ्फरनगर थप्पड़ मामले में कार्रवाई

मोहम्मद जुबैर पर POCSO एक्ट के तहत FIR, मुजफ्फरनगर थप्पड़ मामले में कार्रवाई

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले में फैक्ट चेकिंग वेबसाइट ऑल्ट न्यूज के को-फाउंडर और पत्रकार मोहम्मद जुबैर के खिलाफ केस दर्ज किया गया है।

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले में फैक्ट चेकिंग वेबसाइट ऑल्ट न्यूज के को-फाउंडर और पत्रकार मोहम्मद जुबैर के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। ये एफआईआर बीते दिनों जिले के नेहा पब्लिक स्कूल में मुस्लिम बच्चे को थप्पड़ कांड से संबंधित पोस्ट करने को लेकर किया गया है। जुबैर के खिलाफ बाल संरक्षण अधिनियम (पोक्सो एक्ट) के तहत एफआईआर दर्ज कराई गई है।

मोहम्मद जुबैर पर दर्ज करवाए गए एफआईआर में आरोप लगाया गया है कि उन्होंने 25 अगस्त को नेहा पब्लिक स्कूल खुब्बापुर स्कूल वाले मामले से संबंधित वायरल वीडियो में छात्र की पहचान उजागर की। आरोप लगा है कि यह किशोर न्याय अधिनियम के अंतर्गत बालक के अधिकारों का हनन है।

मोहम्मद जुबैर ने मीडिया को बताया कि वैसे तो इस वीडियो को कई न्यूज चैनल्स, राजनीति से जुडे़ं लोगों के अलावा कई अन्य लोगों ने भी वीडियो पोस्ट किया। लेकिन मुझ पर एफआईआर हुई है। मैंने तो फौरन वीडियो डिलीट कर दिया था। लेकिन उसके बाद भी सिंगल आउट करना ये दिखाता है कि मुझे टारगेट करना चाहते हैं।

उन्होंने कहा, “मैंने वीडियो पोस्ट किया था लेकिन कुछ देर में ही NCPCR के प्रियंक कानूनगो ने कहा कि मैं वीडियो डिलीट करने की गुजारिश करता हूं क्योंकि इसमें बच्चे की पहचान का मामला है। इसके बाद मैंने वीडियो डिलीट करके स्क्रीनशॉट लगा दिया था, जिसमें बच्चे की फोटो नहीं दिख रही है।”

क्वींट वेबसाइट के मुताबिक, मोहम्मद जुबैर ने बताया कि मुझे अब तक जो पता है, यही पता है कि मेरे अलावा और किसी पर एफआईआर नहीं हुआ है, इससे दिखता है कि ये क्या करना चाह रहे हैं। अभी मैं अपने वकील से बात करके लीगल ओपिनियन ले रहा हूं कि इस मामले पर आगे क्या करना है।

अपने सोशल मीडिया हैंडल से किए गए पोस्ट में मोहम्मद जुबैर ने लिखा था कि अभी थोड़ी देर पहले पीड़ित छात्र (छात्र का नाम) के पिता इरशाद से बात हुई। इस दौरान उन्होंने कहा कि अब उन्होंने फैसला किया है कि वो अपने बच्चे को स्कूल नही भेजेंगे।

मोहम्मद जुबैर ने क्लासरूम में बनाए गए वीडियो पोस्ट करने के करीब दो घंटे बाद पोस्ट का स्क्रीनशॉट शेयर करते हुए दूसरा पोस्ट किया। इसमें उन्होंने लिखा कि वीडियो डिलीट कर रहा हूं, क्योंकि NCPCR ‘मैसेंजर’ के खिलाफ एक्शन ले सकता है।